खुशखबरी! ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अब RTO टेस्ट की जरूरत नहीं, जानिए नए नियम

Devansh Shankhdhar
4 Min Read
Driving Licence New Rules

 हमारे देश में ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने की प्रक्रिया थोड़ी सिरदर्दी है। लेकिन अब ये काम बहुत आसान होने वाला है. केंद्रीय सड़क और मोटरमार्ग मंत्रालय ने नए ड्राइविंग लाइसेंस नियमों को संशोधित करने का फैसला किया है। जिससे नागरिकों का काफी काम आसान होने वाला है।

नई दिल्ली:  हमारे देश में Driving Licence प्राप्त करने की प्रक्रिया थोड़ी सिरदर्दी है। लेकिन अब ये काम बहुत आसान होने वाला है. केंद्रीय सड़क और मोटरमार्ग मंत्रालय ने नए ड्राइविंग लाइसेंस नियमों को संशोधित करने का फैसला किया है। जिससे नागरिकों का काफी काम आसान होने वाला है।ऑनलाइन आवेदन करें: ड्राइविंग लाइसेंस बनाना हमारे देश में सिरदर्द है। आरटीओ में आवेदन करें, परीक्षा दें, पास होने के बाद आरटीओ में जाकर ड्राइविंग टेस्ट दें और उसके एक या दो महीने बाद आपको ड्राइविंग लाइसेंस मिल जाता है। वहीं, ऊपर बताए गए अधिकांश कार्यों को करने के लिए आरटीओ में अलग-अलग कतारों में खड़ा होना पड़ता है। लेकिन अब ड्राइविंग लाइसेंस बनवाना आसान हो जाएगा. केंद्रीय सड़क और मोटरमार्ग मंत्रालय ने ड्राइविंग लाइसेंस के नए नियमों में बदलाव का फैसला किया है। ये नए नियम इसी महीने यानि जुलाई से लागू हो गए हैं।

यह भी पढ़े: –जानिए Scorpio-N के बाद Classic Scorpio कैसे खरीदें…

Driving Licence New Rules
Driving Licence New Rules

नए नियमों के लागू होने से अब नागरिकों को Driving Licence हासिल करने के लिए आरटीओ में लंबी कतारों में नहीं लगना पड़ेगा। साथ ही अब लोग आरटीओ में बिना ड्राइविंग टेस्ट लिए भी ड्राइविंग लाइसेंस बनवा सकते हैं। लेकिन इसी बीच एक अहम बदलाव भी किया गया है, जिससे आरटीओ की जगह ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर्स की अहमियत और बढ़ जाएगी. सरकार ने ड्राइविंग ट्रेनिंग सेटर्स को सशक्त बनाने का फैसला किया है। अब ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वालों को ड्राइविंग ट्रेनिंग सेटर्स से सर्टिफिकेट लेना होगा।

बिना आरटीओ टेस्ट के पाएं ड्राइविंग लाइसेंस..

Driving Licence New Rules
Driving Licence New Rules

इस बीच, ध्यान देने वाली एक महत्वपूर्ण बात यह है कि ये ट्रेनिंग सेटर्स पांच साल के लिए वैध होने जा रहे हैं। इन पांच वर्षों के बाद इनका नवीनीकरण कराना होता है। ये प्रशिक्षण केंद्र या प्रशिक्षण केंद्र राज्य परिवहन प्राधिकरण या केंद्र सरकार के अधीन होंगे। जिन लोगों ने Driving Licence के लिए आवेदन किया है, उन्हें ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटरों में अपना नाम दर्ज कराना होगा। आपका ड्राइविंग टेस्ट इन्हीं प्रशिक्षण केंद्रों पर आयोजित किया जाएगा। ड्राइविंग टेस्ट पास करने वालों को ट्रेनिंग सेटर द्वारा सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इस सर्टिफिकेट से आप आरटीओ से ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अप्लाई कर सकते हैं और फिर आपको बिना आरटीओ टेस्ट के Driving Licence मिल जाएगा।

यह भी पढ़े: – नए डिज़ाइन में वापसी करेगी Renault Duster, मिलेगा दमदार फीचर्स

टॉप 5 ई-कार ट्रेनिंग सेंटर्स में देखें Theory और Practical…

सभी ड्राइविंग प्रशिक्षण केंद्र इस प्रकार का प्रमाणपत्र प्रदान नहीं करेंगे। यह प्रमाण पत्र केवल सरकार और आरटीओ द्वारा आधिकारिक रूप से नामित प्रशिक्षण केंद्रों पर ही उपलब्ध होगा। इन अधिकृत प्रशिक्षण केंद्रों में सिमुलेटर होंगे और ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक भी उपलब्ध हैं। ये केंद्र हल्के मोटर वाहनों, मध्यम और भारी मोटर वाहनों का प्रशिक्षण भी देंगे। 29 दिनों के प्रशिक्षण के बाद आपको अपने प्रशिक्षण केंद्र पर ही परीक्षा देनी होगी। वहां आपको थ्योरी (लिखित परीक्षा) और प्रैक्टिकल (ड्राइविंग टेस्ट) दोनों आयोजित किए जाएंगे।

Latest Posts:-

TAGGED:
Share This Article
Follow:
देवांश शंखधार मोटर राडार में कॉपी एडिटर के पद पर कार्यरत है। इनको 2 साल का ऑटोमोबाइल न्यूज़ राइटिंग का अनुभव है। साथ ही इन्होंने एंटरटेनमेंट व टेक जैसी बीट पे भी काम किया है।