Nitin Gadkari
Nitin Gadkari

नई दिल्ली : Nitin Gadkari 6 एयरबैग पर : केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी पिछले कई महीनों से सड़क सुरक्षा, लोगों की सुरक्षित यात्रा पर जोर दे रहे हैं. इसके लिए वे नए नियम लागू कर रहे हैं। अब गडकरी ने एक बार फिर यात्री वाहनों में 6 एयरबैग अनिवार्य करने पर चर्चा की। गडकरी गुरुवार को लोकसभा में बोल रहे थे। उस समय उन्होंने कहा था कि सरकार को यात्री कारों की पिछली सीटों पर बैठे यात्रियों की सुरक्षा को भी प्राथमिकता देनी चाहिए. गडकरी ने लोकसभा में कहा कि फिलहाल गडकरी ने कहा कि हमारा विभाग (मंत्रालय) कारों में पिछली सीट के यात्रियों के लिए भी एयरबैग लगाने की कोशिश कर रहा है। ताकि दुर्घटना की स्थिति में पीछे बैठे यात्रियों की भी जान बच सके। प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है और सरकार जल्द ही कोई फैसला लेगी।

यह भी पढ़े: – Nitin Gadkari ने बचाई करोड़ों लोगों की जान, जानिए कैसे…

Nitin Gadkari

दोहरा मापदंड नहीं चलेगा..

Nitin Gadkari पिछले कई महीनों से यात्री वाहनों में छह एयरबैग अनिवार्य करने पर जोर दे रहे हैं। हाल ही में उन्होंने दोहरे मापदंड अपनाने के लिए वाहन निर्माताओं को आड़े हाथों लिया। गडकरी ने कहा था कि प्रत्येक मानव जीवन का मूल्य है। लेकिन ज्यादातर कार निर्माता अपनी कारों को विदेश में बेचते समय सुरक्षित बनाते हैं। लेकिन वे भारत के लोगों के जीवन के साथ खेलते हैं।
गडकरी ने कहा कि हमने वाहनों में छह एयरबैग अनिवार्य करने का फैसला किया है. लेकिन कुछ ऑटोमोबाइल निर्माता भारत में ऐसी कारों का निर्माण करते हैं जो अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा मानकों का पालन नहीं करती हैं। लेकिन विदेश में एक ही कार मॉडल को बेचते समय, वे अधिक सुरक्षा सुविधाएँ प्रदान करते हैं।

यह भी पढ़े: – https://www.nitingadkari.org/

Nitin Gadkari

Nitin Gadkari : 6 Airbag बढ़ाएंगे वाहनों की सुरक्षा…

गडकरी ने कहा कि कुछ ऑटो निर्माता कारों में 6 एयरबैग अनिवार्य करने के फैसले का लगातार विरोध कर रहे हैं. लेकिन यह फैसला लोगों की जान बचाने के लिए ही लिया गया है।
सभी यात्री वाहनों में छह एयरबैग अनिवार्य करने के प्रस्ताव की घोषणा करते हुए, गडकरी ने मार्च में संसद को बताया था कि कारों में छह कार्यात्मक एयरबैग लगाने से 2022 में 13,000 लोगों की जान बच जाती। भारत में दुनिया के कुल वाहनों की संख्या का केवल 1 प्रतिशत है। हालांकि, दुनिया में सड़क हादसों में होने वाली मौतों में से 10% अकेले भारत में होती हैं। इसलिए भारतीय नागरिकों की सड़क यात्रा को सुरक्षित बनाने के प्रयास किए जाने चाहिए।

Devansh Shankhdhar

देवांश शंखधार मोटर राडार में कॉपी एडिटर के पद पर कार्यरत है। इनको 2 साल का ऑटोमोबाइल न्यूज़ राइटिंग का अनुभव है। साथ ही इन्होंने एंटरटेनमेंट व टेक जैसी बीट पे भी काम किया है।