इंडियन आर्मी क्विक एक्शन फाइटिंग व्हीकल: TATA मोटर्स और महिंद्रा जैसी भारतीय वाहन निर्माण कंपनियां भारतीय सेना को अपनी आवश्यकताओं के अनुसार विभिन्न प्रकार के वाहनों की आपूर्ति करती हैं। TATA समूह की रक्षा शाखा, टाटा एडवांस सिस्टम्स ने भारतीय सेना को त्वरित प्रतिक्रिया से लड़ने वाले वाहनों के एक बैच की आपूर्ति की है। इसके तहत कंपनी ने सेना को कुल 10 वाहन सौंपे हैं। टाटा मोटर्स कंपनी ने वाहनों के इस बेड़े का एक वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया है। कंपनी भारतीय सेना को विभिन्न प्रकार के वाहनों की आपूर्ति करती है। कंपनी ने कुछ साल पहले सेना के लिए वाहनों के निर्माण के लिए एक अलग सहायक कंपनी भी स्थापित की है। इसके तहत टाटा मोटर्स कंपनी सेना को विभिन्न प्रकार की मशीनरी और वाहनों की आपूर्ति करती है।

Army Vehicals

TATA क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल क्या है ?

क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल पूरी तरह से बुलेटप्रूफ वाहन हैं, जो युद्ध की स्थिति में सैनिकों की एक यूनिट को एक स्थान से दूसरे स्थान तक सुरक्षित पहुंचाने में उपयोगी होंगे। इन वाहनों पर दुश्मन की ओर से किसी भी तरह की फायरिंग से अंदर बैठे कर्मियों को कोई नुकसान नहीं होगा। इतना ही नहीं सैनिकों को लैंड माइंस से भी बचाया जाएगा। साथ ही अगर दुश्मन इन वाहनों पर हथगोले से हमला भी करते हैं, तो भी अंदर लोग सुरक्षित रहेंगे। ऐसे सुरक्षित वाहनों (10 वाहन) की पहली खेप टाटा मोटर्स ने भारतीय सेना को सौंप दी है।

Army Vehicals

यह भी पढ़े: – भारत में लॉन्च हुआ Tata Nexon का एक और नया वेरिएंट, देखें कीमत

पहाड़ों पर चढ़ना आसान है..

TATA मोटर्स कंपनी कई देशों में मेड इन इंडिया क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल्स पहुंचा रही है। भारत से शांति मिशन में भाग लेने वाले सैनिक भी इन वाहनों का उपयोग करते हैं। ये क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल 4X4 ड्राइवट्रेन के साथ आते हैं। तो यह वाहन मुश्किल सड़कों और पहाड़ियों पर भी बहुत आसानी से दौड़ता है। ये विशेष रूप से ऊंचे पहाड़ों पर चढ़ने के लिए सबसे अच्छे वाहन हैं। सेना को हमेशा ऐसे वाहनों की जरूरत होती है।

Army Vehicals

हमलों और जवाबी हमलों के लिए सुसज्जित

टाटा मोटर्स के क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल लेवल 4 ब्लास्ट प्रोटेक्शन के साथ आते हैं। ये वाहन 14 से 21 किलो तक के विस्फोटकों के धमाकों को झेलने में सक्षम हैं। इस एकल वाहन में चालक सहित 14 सैनिक बैठ सकते हैं। युद्ध की स्थिति में इन वाहनों पर मशीनगन भी लगाई जा सकती हैं। ऐसे समय में ये वाहन न केवल सुरक्षा के लिए बल्कि हमलों और जवाबी हमलों के लिए भी उपयोगी होंगे। इसलिए इन वाहनों को क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल कहा जाता है।

यह भी पढ़े: – Tata Nexon EV vs Mahindra E Verito : जानिए कौनसी है बेहतर…..

Army Vehicals

शक्तिशाली इंजन

टाटा क्विक रिएक्शन फाइटिंग व्हीकल एक शक्तिशाली डीजल इंजन से लैस है। यह इंजन 240 bhp की पावर जेनरेट कर सकता है। ये वाहन 2 टन या अधिक ले जा सकते हैं। इन वाहनों में ऑल-टेरेन टायर दिए गए हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इन वाहनों को सभी प्रकार की सड़कों पर चलाया जा सके। ये वाहन कीचड़ वाली सड़कों, खराब या गड्ढों वाली सड़कों पर भी आसानी से चलेंगे। इन वाहनों को अच्छा ग्राउंड क्लियरेंस भी दिया जाता है।

Army Vehicals

TATA और डीआरडीओ द्वारा वाहनों का निर्माण..

भारतीय सेना ने हाल ही में लद्दाख में भारतीय सीमा पर गश्त करने के लिए मेड इन इंडिया इन्फैंट्री लड़ाकू वाहनों को शामिल किया है। लद्दाख सीमा पर सेना की आवाजाही बढ़ाने और जरूरत पड़ने पर सैनिकों को सहायता प्रदान करने के लिए इन वाहनों को सेना के बेड़े में शामिल किया गया है। इन वाहनों को संयुक्त रूप से रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) और टाटा समूह द्वारा विकसित किया गया है।

यह भी पढ़े: – Tata Motors: एक महीने में हजारों यूनिट्स की बिक्री करते हुए यह कार सभी घरेलू और विदेशी ब्रांडों को पछाड़कर भारत की नंबर एक एसयूवी बन गई।

Army Vehicalsc

केंद्र ने 50 हजार कोंटी . के प्रोजेक्ट को दी मंजूरी..

केंद्र सरकार ने सेना के लिए भारतीय निर्मित वाहन खरीदने के लिए 50,000 करोड़ रुपये की परियोजना को मंजूरी दी है। वर्तमान में, भारतीय सेना लड़ाकू वाहनों के लिए रूस और अमेरिका पर बहुत अधिक निर्भर है। लेकिन केंद्र सरकार इस निर्भरता को कम करना चाहती है। भारतीय सेना के मेड इन इंडिया वाहनों की आवश्यकता को पूरा करने के लिए देश में कई कंपनियां आगे आ रही हैं। वर्तमान में, टाटा मोटर्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, भारत फोर्ज, कल्याणी और लार्सन एंड टुब्रो जैसी कंपनियां भारतीय सेना के लिए विभिन्न प्रकार के वाहनों का निर्माण करती हैं।

Click Here For More Info >

.

Latest Post:-

Devansh Shankhdhar

देवांश शंखधार मोटर राडार में कॉपी एडिटर के पद पर कार्यरत है। इनको 2 साल का ऑटोमोबाइल न्यूज़ राइटिंग का अनुभव है। साथ ही इन्होंने एंटरटेनमेंट व टेक जैसी बीट पे भी काम किया है।