Green Hydrogen
Green Hydrogen

नई दिल्ली : केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी एक दूरदर्शी नेता हैं. उन्होंने हाइवे, फ्लाईओवर और वाहनों के क्षेत्र में नागरिकों को कई सपने दिखाए हैं। इस लिहाज से वे काम भी करते हैं। इस लिस्ट में अब एक और मिशन जुड़ गया है। यह मिशन Green Hydrogen से संबंधित है। हाल ही में इंजीनियरों और पेशेवरों के राष्ट्रीय सम्मेलन में, गडकरी ने वैकल्पिक ईंधन पर अपना जोर दोहराया। गडकरी ने कहा कि भारत में अपनी खुद की कार चलाना बहुत किफायती होगा। साथ ही पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से भी राहत मिलेगी।

यह भी पढ़े:  “Nitin Gadkari” का ‘यह’ आइडियल ला सकता है बहुत बड़ा बदलाव.. 

गडकरी ने कहा कि पेट्रोलियम, बायोमास, जैविक कचरे और सीवेज से हरित हाइड्रोजन का उत्पादन किया जा सकता है। हरित हाइड्रोजन का उपयोग विमानन (विमान), रेलवे और मोटर वाहन उद्योग सहित कई क्षेत्रों में किया जा सकता है। टोयोटा मिराई हाइड्रोजन से चलने वाली कार है। इस कार के टैंक को हाइड्रोजन से भरने के बाद यह 650 किमी तक चलती है। गडकरी फिलहाल इस कार का इस्तेमाल कर रहे हैं। कई बार गडकरी इसी कार से संसद में दाखिल हुए हैं।

हाइड्रोजन कार कैसे काम करती है ?

हाइड्रोजन से चलने वाली कार एक प्रकार की इलेक्ट्रिक कार होती है। लेकिन इसकी बैटरी को चार्ज करने के लिए हाइड्रोजन फ्यूल का इस्तेमाल किया जाता है। कार को चार्ज करने की जरूरत नहीं है। यदि हाइड्रोजन ईंधन नहीं है, तो आप कार को चार्ज कर सकते हैं। एरवी हाइड्रोजन ईंधन सेल से बिजली उत्पन्न होती है, जिसे बैटरी में फीड किया जाता है। यह कार में इलेक्ट्रिक मोटर को पावर देता है और कार चलने लगती है। हाइड्रोजन से बिजली पैदा करते समय होने वाली रासायनिक प्रक्रिया के बाद ये कारें पानी यानि H2O का उत्सर्जन करती हैं।

यह भी पढ़े: 800 रुपये के एयरबैग के लिए 60 हजार Nitin Gadkari ने किया घोटाले का पर्दा फास…

1 लीटर पेट्रोल 1.3 लीटर एथेनॉल के बराबर होता है..

इस सम्मेलन के दौरान, गडकरी ने वैकल्पिक ईंधन के रूप में इथेनॉल का भी उल्लेख किया। गडकरी ने कहा कि इथेनॉल की कीमत 62 रुपये प्रति लीटर है। कैलोरी मान की दृष्टि से 1 लीटर पेट्रोल 1.3 लीटर एथेनॉल के बराबर होता है। अर्थात् एथेनॉल का ऊष्मीय मान पेट्रोल से कम होता है। इंडियन ऑयल ने हाल ही में रूसी वैज्ञानिकों के साथ मिलकर इन दोनों ईंधनों को ऊष्मीय मान देने के लिए प्रौद्योगिकी विकसित करने का काम किया है। गडकरी ने कहा कि पेट्रोलियम मंत्रालय ने अब इस तकनीक को प्रमाणित कर दिया है।

Latest Post :-

Click For More Info :-

Devansh Shankhdhar

देवांश शंखधार मोटर राडार में कॉपी एडिटर के पद पर कार्यरत है। इनको 2 साल का ऑटोमोबाइल न्यूज़ राइटिंग का अनुभव है। साथ ही इन्होंने एंटरटेनमेंट व टेक जैसी बीट पे भी काम किया है।