हमारे देश में अभी तक भी मैनुअल गियरबॉक्स वाली कारों का ही सबसे ज्यादा प्रचलन है। लेकिन वहीं, अब धीरे-धीरे ऑटोमैटिक गाड़ियां भी मार्केट में अपनी जगह कायम कर रही हैं। और अगर ऐसे में आप भी कार खरीदने की प्लानिंग कर रहे हैं और आपको ये समझ नहीं आ रहा है कि आप मैनुअल कार का चयन करें या फिर ऑटोमैटिक की ओर जाएं तो चलिए आपको बताते हैं इस खबर के जरिए दोनों कारों के बीच का फर्क क्या है?

Manual Car
भारत में जब से कारों का चलन शुरु हुआ है तब से लगभग सभी गाड़ियां मैनुअल ट्रांसमिशन के साथ ही मार्केट में आती रही हैं। इसलिए हम सभी मैनुअल कार को खरीदना ज्यादा पसंद करते हैं। और इसके पीछे एक बड़ा कारण ये भी है कि हम अपने बचपन से ही उन गाड़ियों में सफर करते हुए आए हैं, जिनमें गियर दिए होते हैं, और हमें यह पता भी रहता है कि गियर को लगाया कैसे जाता हैं।

ये भी पढ़ें: नए अफ्तार में लांच हुई TATA Harrier,जाने कीमत व फीचर्स ..

Manual Car के फायदे
अब अगर बात करें मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कारों के फायदे की तो इनके काफी फायदे भी होते हैं। जैसे की सबसे बड़ा फायदा ये कि इनकी कीमत ऑटोमैटिक कार के मुकाबले में काफी कम होती है। हमारे लिए इन्हें रिपेयर करना काफी आसान और सस्ता भी होता है। और अपनी जरूरत के हिसाब से कार के गियर को बदलकर इंजन की पावर को भी कम या ज्यादा किया जा सकता है।

Manual Car के नुकसान
मैनुअल ट्रांसमिशन वाली गाड़ियां भले ही काफी लंबे समय से प्रचलन में हों लेकिन इनके कुछ नुकसान भी होते हैं। जिसमें से इनका सबसे बड़ा नुकसान होता है, कि इन गाड़ियों को चलाने पर ड्राइवर बहुत ज्यादा जल्दी थकान मान लेता है। और अगर कहीं ट्रैफिक में कार फंस जाए तो फिर आपको बार -बार इसमें गियर को बदलना पड़ता है। जिससे की आपके पैरों को आराम नहीं मिल पाता। और इसके अलावा मैनुअल कारों में क्लच भी काफी ज्यादा जल्दी गर्म हो जाता है। और कार की माइलेज पर भी काफी बुरा असर पड़ता है। इसके साथ ही इन्हें चला पाना नए ड्राइवर्स के लिए थोड़ै मुश्किल होता है। क्योंकि बार- बार गियर बदलने की आदत न होने की वजह से कई बार नए ड्राइवर्स कार को एक ही गियर में चलाने लगते हैं। जिसकी वजह से इंजन पर काफी लोड बढ़ जाता है।

AutoMatic Car
अब अगर AutoMatic कार की बात की जाए तो, इस बात को नजरंदाज नहीं किया जा सकता है, कि मैनुअल के मुकाबले में ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन वाली कारें आपको एक ज्यादा बेहतर ड्राइविंग एक्सपीरियंस देने में सक्षम हैं।

AutoMatic Car के फायदे
आपको बता दें कि ऑटोमैटिक कार को चलाना काफी ज्यादा आसान होता है। इसमे बार- बार गियर को बदलने का झंझट नहीं होता है इस वजह से नया ड्राइवर भी इन्हें बहुत ही आसानी से चला पाता है। और ट्रैफिक में फंसने पर भी इन कारों में बार-बार गियर को नहीं बदलना पड़ता जिससे की शहर में ड्राइविंग करना काफी ज्यादा आसान हो जाता है। वहीं, लंबी ड्राइव के दौरान भी इन ऑटोमैटिक कारों को चलाना काफी आसान होता है, क्योंकि इसमें आपको सिर्फ एक ही बार गियर डालना होता है और उसके बाद आपकी कार खुद ही गियर जरुरत के हिसाब से बदलती रहती है।

AutoMatic Car के नुकसान
इतने सारे फायदे होने के बावजूद भी ऑटोमैटिक कार के कुछ नुकसान भी होते हैं। और इसका सबसे बड़ा नुकसान आपको रिपेयरिंग के समय पर होता है। जब तक आपकी कार में कोई तकनीकी खराबी नहीं आती तब तक तो सब ठीक है, लेकिन वहीं, एक बार परेशानी आने पर उसे ठीक करवाने में आपका काफी बड़ा खर्चा हो जाता है। और इन कारों का मेंटिनेंस भी मैनुअल के मुकाबले में काफी ज्यादा होता है। इसके अलावा आप गियर को अपने हिसाब से बदलकर नीचे या ऊपर करके इंजन से कम या फिर ज्यादा पावर भी नहीं ले पाते हैं। क्योंकि ये सिस्टम अपने हिसाब से ही गियर बदलकर चलता है। और इसके साथ ही सबसे बड़ा नुकसान ये है कि मैनुअल कार के मकैनिक तो आपको कहीं पर भी बहुत आसानी से मिल जाते हैं, लेकिन वहीं, ऑटोमैटिक कारों को हर जगह पर आप ठीक नहीं करवा सकते हैं।

Latest posts:-