मारुति सुजुकी भारत में बहुत कम लोग हैं जो इस नाम को नहीं जानते हैं। ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरिंग कंपनी भारत के हर शहर और शहर में पहुंच चुकी है। मारुति सुजुकी ने भारत में अपनी यात्रा 1983 में शुरू की थी। तब से लेकर अब तक मारुति ने एक के बाद एक शानदार कारों का निर्माण किया है। कंपनी एक दर्जन से ज्यादा कारें लॉन्च कर चुकी है। कंपनी के उत्पादन के बारे में जानकारी देते हुए, मारुति ने कहा कि कंपनी ने अब तक 2.5 करोड़ यात्री कारों का उत्पादन किया है और ऐसा करने वाली वह एकमात्र भारतीय कंपनी है।

भारत में मारुति सुजुकी की यात्रा 1980 में गुरुग्राम, हरियाणा में स्थित एक निर्माण सुविधा के साथ शुरू हुई। M800 मारुति सुजुकी की पहली कार थी। भारत में ऑटोमोबाइल क्षेत्र फलने-फूलने लगा। फिलहाल मारुति के पोर्टफोलियो में 16 कारें हैं और कंपनी जल्द ही कुछ कारें लॉन्च करने की योजना बना रही है।

मारुति सुजुकी कारों का निर्माण हरियाणा में दो स्थानों पर किया जाता है, एक गुरुग्राम में और दूसरा मानेसर में। कंपनी के मुताबिक कंपनी का सालाना कार प्रोडक्शन 1.5 लाख यूनिट है और ऐसा करके मारुति ने भारत में अपनी 40 साल की यात्रा पूरी कर ली है। इसके साथ ही 2.5 करोड़ कारों के जरिए लाखों लोगों का कार खरीदने का सपना भी साकार हुआ है।

ये भी पढ़ें:Maruti Alto 800 को लेकर कस्टमर्स में होने जा रहा भीसड़ घमासान! 20kmpl की माइलेज दे रही चकमा….

कंपनी अपनी कारों की किफायती कीमतों और शानदार फीचर्स के चलते सालों से भारतीय ऑटो मोबाइल बाजार पर राज कर रही है। लेकिन अब कुछ कार निर्माता मारुति को कड़ी टक्कर देना चाह रहे हैं। जिसमें Hyundai, Tata Motors जैसी कंपनियां हैं। इस कंपनी की कारें भी भारत में काफी लोकप्रिय हैं और इनकी बिक्री भी ज्यादा होती है। इसके साथ ही महिंद्रा, किआ और टोयोटा भी अच्छा प्रदर्शन कर मारुति को चुनौती दे रही हैं।

लेकिन अब ग्राहकों की पसंद बदल रही है और इसे देखते हुए कंपनी मारुति ब्रेजा और ग्रैंड विटारा जैसी सबसे ज्यादा बिकने वाली एसयूवी कारों को बाजार में बेच रही है। मारुति XL6, Ertiga, Baleno, Alto और Brezza के फेसलिफ़्टेड वर्जन भी लॉन्च करने की तैयारी कर रही है।

Latest posts:-